ISRO full form in hindi इसरो में साइंटिस् कैसे बनें 2022-23

आपने ISRO के बारे में तो जरुर ही सुना होगा अगर नही सुना तो news पेपर या फिर टीवी में Social मीडिया में इसके बारे में तो सुना ही होगा आज आपको इसरो के बारे में पूर्ण जानकारी इस पोस्ट के माध्यम से मिलने वाली है । आज INDIAN SPACE RESEARCH  ORGANIZATION क्या है ?  इसका मुख्यालय कन्हा है ।

और साथ ही आपको जानकारी देंगे की आप इसरो में जॉब कैसे पा सकते है क्या योग्यता होनी चाहिये और आप किस प्रकार इसरो में वैज्ञानिक बन सकते है । आपको बता दें की बहुत सारे ऐसे students है जो इसरो में जॉब करना चाहते है लेकिन उन्हें इसके बारे में सही जानकारी नही होने के कारन अपना सपना पूरा नही कर सकते है ।

अगर आप 12th पास Candidates है तो फिर भी आप ISRO  में जॉब करने के लिए Eligible है , अगर आप भी ISRO में जॉब करने का अपना सपना पूरा करना चाहते है तो आप मेरे साथ अंत तक इस Post में बने रहे ।

ISRO का फुल फॉर्म क्या है

ISRO  full form in hindi “Indian Space Research Organization”   हिंदी में इसे  “भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन”  होता है ।

ISRO Full Form in hindi

इसरो का फुल फॉर्म “indian Space Research Organization ” होता है , “भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन “ यह एक ऐसा संगठन है जिसने भारत के लिए बहुत सारे उपग्रह , उपकरण और Technology को को विकसित करता है । जैसे भोगोलिक सुचना प्रणाली , संचार , प्रसारण , मौसम सम्बंधित सुचना , मानचित्र , और अनेक उपकरण तैयार किया है । 

ISRO क्या है ?

ISRO यह एक भारत की अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन है अगर हम बात करें अन्तरिक्ष विज्ञानं की तो ISRO  का ही नाम हमारी जुबान पर होगा है । जिसके कारण आज भारत की पास बहुत सारे अन्तरिक्ष उपग्रह है और अन्तरिक्ष से संबधित बहुत साडी Technology को भी विकसित कर चूका है ।

ISRO KYA HAI
ISRO KYA HAI

इसरो का कार्य होता है मौसम सम्बंधित जानकारी देना , उपग्रह , लांच व्हीकल्स और rockets का विकास करना यह इसरो का सबसे प्रमुख कार्य है । आपने उपग्रह PSLV  और GSLV  यह इसरो के प्रमुख राकेट्स है , PSLV  द्वारा यह छोटे और हलके राकेट्स छोड़ा जाता है । जबकि GSLV के द्वारा भारी उपग्रह हो छोड़ा जाता है ।

LLB का full फॉर्म क्या है ? LLB कैसे करें 

E-Mail का फुल फॉर्म क्या है ? 

जो की हमारी प्रथ्वी से 36 हजार किलोमीटर की ऊँचाई पर होते है भारत के पास ISRO के 40 से अधिक केंद्र है जिसमे लगभग 17 हजार से भी अधिक वैज्ञानिक कार्यरत है ।

ISRO की स्थापना 

ISRO की स्थापना 15 अगस्त सन 1969 को की गयी । तब इसका नाम INCOSPAR था जिसका फुल फॉर्म होता है “INDIAN NATIONAL COMMITTEE FOR SPACE RESEARCH “ हिंदी में “भारतीय राष्ट्रीय समिति ” कहा जाता था ।

भारत के प्रथम प्रधान  मंत्री  पंडित जवाहरलाल लाल नेहरु इसे भविष्य का विकास करने के लिए इसको बहुत ज्यादा मान्यता दी और सन 1961 में अन्तरिक्ष अनुसन्धान को परमाणु उर्जा की देख रेख में रखा गया इसके बाद 1962 में INCOSPAR का गठन किया गया जिसका निर्देशक होमी भाभा को बनाया गया ।

इसरो की स्थापना भौतिक वैज्ञानिक , खगोलशार्त्री डॉ. विक्रम अंबाला साराभाई द्वारा सन 1969 में की गयी थी आर सभा पति के रूप में विक्रम साराभाई को नियुक्त किया गया है ।

ISRO का मुख्यालय कन्हा है ?

ISRO (भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन ) का मुख्यालय बेंगलुरु (कर्नाटक ) में है , जिसकी निगरानी भारत के प्रधान मंत्री के द्वारा की जाती है (वर्तमान प्रधानमंत्री – श्री नरेन्द्र मोदी )  यह भारत के अन्तरिक्ष विभाग के अंतर्गत कार्य करता है ।

👉 एमएससी का फुल फॉर्म क्या है एमएससी करने के फायदे

👉 ADCA का फुल फॉर्म क्या है ADCA कोर्स कैसे करें 

इसरो में जॉब कैसे पाए ?

इसरो में जॉब करने के लिए Candidate को 12th में science सब्जेक्ट के साथ में पास  करनी पड़ती है । अगर आप science में अपने मनपसंद सब्जेक्ट के अलावा बाकि अन्य सब्जेक्ट पर भी विशेष ध्यान देना होता है । 12th पास करने के बाद आपको ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करना होगा ।

ग्रेजुएशन , और पोस्टग्रेजुएट या फिर  diploma कोर्स भी कर सकते है  जैसे  आईटीआई , MTC , MSC , BSC , बी. टेक , की डिग्री आप भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त University से कर सकते है । या फिर आप किसी मान्यताप्राप्त संसथान से इंजीनियरिंग में diploma कोर्स  भी कर सकते है ।

इसरो साइंटिस्ट की  योग्यता

साइंटिस्ट बन्ने के लिए कोई इसका विशेष कोर्स नही होता है , साइंटिस्ट बन्ने के लिए लिए आपका 11th और 12th में science subject होना अनिवार्य होता है । आप 11th में Physics, Chemistry, math’s के और साथ में English Subject हो तो और अछि बात है ।

12th पास करने के बाद आप उसी सब्जेक्ट के साथ में अपने ग्रेजुएशन और Post Graducation  की Degree पूरी करें , जैसे MSC , PHD , बी.टेक , इंजीनियरिंग इत्यादि में आप कम से कम 65 % अंक होने ही चाहिए इसके बाद आप इसरो के द्वारा निकाले जाने वाले रिक्त पदों के लिए अपना Application फॉर्म भर सकते है ।

👉 PGDCA का फुल फॉर्म क्या है ? 

👉  EWS का फुल फॉर्म क्या है ?  EWS सर्टिफिकेट के फायदें  

इसरो में साइंटिस्ट कैसे बने

भारत में कुल 40 से भी ज्यादा इसरो Centers है जन्हा पर आप अपना Career स्थापित कर सकते है , आप 1 बार इसरो की वेबसाइट में विजिट कर उसकी पूरी जानकारी जरुर हासिल कर लें ।आपको निम्न प्रकार के तरीके बताये जायेंगे जिससे आप अपना साइंटिस्ट बनने का सपना पूरा कर सकते है ।

♦ IIST (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्पेस टेक्नोलॉजी )

अगर आप का सपना ही है की साइंटिस्ट्स बनने का तो आप सबसे पहले ऊपर दिए गए निर्देश को अच्छे से follow करें और अपने School 12th में अच्छे प्रतिशत के साथ 12th पास करे कम से कम 65 % marks हासिल करें । फिर IIST में एडमिशन के लिए अप्लाई करें ।

IIST में एडमिशन लेने के लिए आपको JEE का Entrance एग्जाम पास करना होता है इस Test में आप अच्छी रेंक के साथ पास हो इसमें आप होने के लिए आपको कम से कम 65 % अंक अर्जित करना होगा । इस Entrance एग्जाम को पास करने के बाद ही आप IIST में एडमिशन ले सकते है ।

इस इंस्टिट्यूट में आपको B.tech की 4 साल की डिग्री प्रदान करता है , IIST में एडमिशन लेने के लेने के लिए आप IIST की ऑफिसियल Website पर विजिट कर सकते है www.iist.ac.in , इसरो अधिकतर साइंटिस्ट का चुनाव इसी इंस्टिट्यूट से चयन करता है ।

♦ डायरेक्ट इंटरव्यू

अगर आप भारत के Top इंस्टिट्यूट में पढाई करते है जैसे IIST या NIT में तो आप कॉलेज प्लेसमेंट के द्वारा डायरेक्ट इंटरव्यू देकर ही साइंटिस्ट के पद पर नियुक्त हो सकते है । इसरो इन्ही इंस्टिट्यूट से जीनियस Candidates का चुनाव करता है ,  अगर आप भी इंट्रेस्टेड है तो आप किसी अच्छे college में एडमिशन लेकर direct ही इसरो की इंटरव्यू के द्वारा साइंटिस्ट के पद पर चयनित हो सकते है ।

👉  CCC का फुल फॉर्म क्या है ? सीसीसी कोर्स कैसे करे

👉 PDF का फुल फॉर्म क्या है ? 

♦ इसरो एग्जाम देकर

इसरो हर साल एक Exam आयोजित करता है जिसे ICRB (इसरो  सेण्टर लाइट रिक्रूटमेंट बोर्ड ) कहते है । यह Exam आप Bachelor ऑफ़ इंजीनियरिंग , बैचलर ऑफ़ साइंस , बैचलर ऑफ़ टेक्नोलॉजी करने के बाद ही अप्लाई कर सकते है । यह परीक्षा 3 Categories में होती है ।

  1. इलेक्ट्रॉनिक
  2. Mechanical
  3. Computer

अगर आपने बैचलर Degree पास कर ली है तो आप इन एग्जाम में भाग ले सकते है , यह एग्जाम में अप्लाई करने के लिए आपको बैचलर Degree में पूरी तरह पास होना आवश्यक होता है और अपने 12th के marks और ग्रेजुएशन में अच्छे marks होने चाहिए ।

एक सफल साइंटिस्ट की विशेषता 

अगर आप एक अच्छे और सफल साइंटिस्ट Scientist बनना चाहते है तो आपको अपने अन्दर किन किन चीजो का विकाश करना होगा जो आपको Scientist बनने के लिए प्रेरित करता है । तब ही आप एक कुशल साइंटिस्ट बन सकते है  जैसे –

♦ रिसर्च में रूचि

आज कल आपके आस – पास ऐसी बहुत सी चींजे है जैसे इलेक्ट्रानिक उपकरण मोबाइल Phone TV , कूलर फ्रीज़ इत्यादि , अगर हम फ्रीज़ की बात करें तो अब एक फ्रीज़ के अन्दर हम किसी भी जल्दी ख़राब होने वाली चीजों के फ्रीज़ में रख कर कैसे लम्बे समय तक ताजा रख सकते है ।

उदा. एक फ्रीज़ में ऐसा क्या लगाया जाता है जो पानी को बर्फ में बदल देता है , उसके पीछे के कारण क्या है यह क्यों है क्या और कोई उपाय है जिसके कारण हम Freeze को बिजली के बजाय और किसी से चला सकते है । इस प्रकार आप Freeze के ऊपर  रिसर्च कर सकते है ।

इस प्रकार की रूचि एक साइंटिस्ट में होनी चाहिए

👉 CPCT का फुल फॉर्म क्या है ? CPCT की तैय्यारी कैसे करें ? 

👉 PG का फुल फॉर्म क्या है PG कोर्स कैसे करें 

♦ इनोवेशन

इनोवेशन का मतलब होता है अविष्कार करना जैसे की मान लो computer का जब अविष्कार हुआ था तो computer को 1 कमरे में रखा जाता था इतना बड़ा होता है , लेकिन इसमें खोज होने के बाद इसे इतना छोटा कर दिया गया आप इसे आज कल Beg में रखकर चलते है ।

इसका सबसे अच्छा उदाहरण है लैपटॉप , Smartphone को भी एक मिनी कंप्यूटर की श्रेणी में रख सकते है इस प्रकार के इनोवेशन करने की क्षमता होनी चाहिए ।

♦ रिस्क लेना

एक Scientist हमेसा ही अपने जीवन में रिस्क जरुर लेता है बिना रिस्क के की कुछ काम होता ही नही अगर किसी Scientist में रिस्क न लिया होता तो आज दुनिया में इतने अविष्कार न होते है । देश बहुत ही पिछड़ा हुआ रहता Scientist  के कदम -कदम पर रिस्क होता है ।

♦ धैर्य

एक Scientist  में धैर्य होना बहुत ही आवश्यक है , जैसे की अगर आप किसी चीज का अविष्कार करते है या किसी प्रकार की Research करते है तो आपको थोडा धैर्य रखना बहुत ही जरुरी होता है । क्युकी एक छोटी सी गलती के भी आपको बहुत बड़े परिणाम चूका सकते है । इसलिए धैर्य सबसे बड़ी विशेषता मानी जाती है ।

♦ भाषाओ का ज्ञान

अपनी क्षेत्रीय भाषाओ के साथ में और भी भाषाओँ का ज्ञान होना बहुत ही जरुरी है , ताकि आपको किस दुसरें देश के या फिर Scientist  के विचारों को आप आसनी से समझ पाए इसलिए इस फील्ड में भाषाओँ का ज्ञान भी बहुत जरुरी होता है ।

♦ Books पड़ना

दुनिया में ऐसे बहुत से वैज्ञानिक है तो अपने ज्ञान को बढाने के लिए Books का सहारा लेते है देश विदेश के महान Scientist के विचारों को पड़ते है और उसे अपने Work में प्रयोग करते है ।

Book पड़ने से हमें कुछ नयी चीजो का पता चलता है जिससे हम हमारे काम को और अधिक Smart तरीके से कर सकते है ।

👉 बीएससी का फुल फॉर्म क्या होता है बीएससी करने के फायदे 

👉 NEFT का फुल फॉर्म क्या है ? 

साइंटिस्ट की सैलरी 

यह एक सरकारी Job है इसमें आपको salary तो मिलती है , लेकिन साथ में सरकार दे द्वारा कुछ भत्ते भी प्रदान किये जाते है  और सुविधाए भी दी जाती है , इस Field में Salary उनकी पोस्ट के अनुसार ही दी जाती है ।

शुरुआत में 25,000 हजार प्रति माह सैलरी प्रोवाइड की जाती है जो बाद में आपके Experience के अनुसार बढाई जा सकती है अधिकतम सैलरी 1 लाख 50 हजार तक या इससे भी अधिक बड सकती है ।

अतिरिक्त उन्हें रहने के लिए घर और यात्रा , Medical , की सुविधा ऑफिसर और उसके पुरे परिवार को दी जाती है ।

आज आपने क्या सिखा 

उम्मीद है  दोस्तों आज आपको “ISRO full form in hindi” के साथ आपको इसरो के बारे में बहुत साडी रोचक जानकारीयो के बारे में भी जाना और साथ में यह जानकारी भी ली की ISRO क्या है ? इसरो में जॉब कैसे करें , इसरों में साइंटिस्ट कैसे बने और बहुत सारी जानकारी उम्मीद है आज इस आर्टिकल के द्वारा आपको इसरो के बारे जानने को मिला ।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ में जरुर शेयर करें ताकि जो भी स्टूडेंट साइंटिस्ट बन्ने का सपना देख रहा है उसे इसके बारे में अछि जानकारी हासिल हो ।

👉 ऐसे ही रोजाना नये पोस्ट की जानकारी पाने के लिए आप हमारे Blog को सब्सक्राइब करे और हमें सोशल media में जरुर Follow करें । 

 

FAQ ऑफ़ इसरो

प्रश्न 1. इसरो का मुख्यालय कन्हा है ?

  उत्तर –  इसरो का मुख्यालय बेंगलुरु (कर्नाटक ) में स्थित है ।

प्रश्न 2. इसरो के संस्थापक कौन है ? 

उत्तर – विक्रम अंबालाल सारा भाई इसरो के सस्थापक है

प्रश्न 3 . भारत का प्रथम उपग्रह 

उत्तर – भारत का प्रथम उपग्रह “आर्यभट्ट ” है यह सोवियत संघ द्वारा 19 अप्रैल 1975 को कॉसमॉस-3एम प्रक्षेपण वाहन द्वारा कास्पुतिन यार से प्रक्षेपित किया गया था।

प्रश्न 4. इसरो के वर्तमान  अध्यक्ष कौन है 

उत्तर –  डॉ- एस- सोमनाथ को केंद्र सरकार ने ISRO का अध्यक्ष घोषित किया है सोमनाथ एक Airospace इंजिनियर और रोकेट वैज्ञानिक है।

प्रश्न 5. भारत में बने प्रथम रॉकेट का नाम क्या था ? 

उत्तर – भारत का पहला स्वदेशी परिज्ञापी Roket , RH-75, 20 नवंबर, 1967 में प्रमोचित किया गया।

👉 BCA का फुल फॉर्म क्या है ? 

👉 NEET का फुल फॉर्म क्या है ? NEET की तैय्यारी कैसे करें

👉  आईपीएस का फुल फॉर्म क्या है IPS ऑफिसर कैसे बने ? 

Social Share

Leave a Comment